ANKHON HI ANKHON ME ISHARA HO GAYA LYRICS – Geeta Dutt, Mohammed Rafi | C.I.D. (1956)

Ankhon Hi Ankhon Me Ishara Ho Gaya Lyrics (आँखों ही आँखों में इशारा हो गया Lyrics in Hindi): The song is sung by Geeta Dutt and Mohammed Rafi, and has music by O. P. Nayyar while Jan Nisar Akhtar has written the Ankhon Hi Ankhon Me Ishara Ho Gaya Lyrics. The music video of the Ankhon Hi Ankhon Me Ishara Ho Gaya song is directed by Raj Khosla , and it features Dev Anand, Shakila, and Waheeda Rehman.

Ankhon Hi Ankhon Me Ishara Ho Gaya Song Details

📌 Song Title Ankhon Hi Ankhon Me Ishara Ho Gaya
🎞️Album C.I.D. (1956)
🎤Singer Geeta Dutt, Mohammed Rafi
✍️Lyrics Jan Nisar Akhtar
🎼Music  O. P. Nayyar
🏷️Music Label Saregama

▶︎ See music video of Ankhon Hi Ankhon Me Ishara Ho Gaya Song on Saregama YouTube channel for your reference and song details.

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया LYRICS IN HINDI

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में

गाते हो गीत क्यों, दिल पे क्यों हाथ है
खोए हो किस लिए, ऐसी क्या बात है
ये हाल कब से तुम्हारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में

चलते हो झूम के, बदली है चाल भी
नैनों में राग है, बिखरे हैं बाल भी
किस दिलरुबा का नजारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में

अब ना वो ज़ोर है, अब ना वो शोर है
हमको है सब पता, दिल में जो चोर है
ये चोर कैसे गवारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में

कैसा ये प्यार है, कैसा ये नाज़ है
हम भी तो कुछ सुने, हमसे क्या राज़ है
अच्छा तो ये दिल हमारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में।

Written by:
Jan Nisar Akhtar



Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankho me

Gaate ho git kyun dil pe kyun hath hai
Khoe ho kis liye aisi kya bat hai
Ye hal kab se tumhara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankho me

Chalate ho jhum ke badali hai chaal bhi
Naino me rag hai bikhare hai baal bhi
Kis dilaruba ka nazara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me

Ab na vo zor hai ab na vo shor hai
Hamako hai sab pata dil me jo chor hai
Ye chor kaise gavara ho gaya
Ankhon hi ankho me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankho me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankho me

Kaisa ye pyar hai kaisa ye naaz hai
Ham bhi to kuchh sune hamase kya raaz hai
Achchha to ye dil hamara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me ishara ho gaya
Baithe baithe jine ka sahara ho gaya
Ankhon hi ankhon me

Written by:
Jan Nisar Akhtar

Leave a Comment