धीरे धीरे गमन करें Shani Dhire Dhire Gaman Kare Lyrics

 

Shani Dhire Dhire Gaman Kare Lyrics in Hindi and English, this bhakti song is sung by , with lyrics penned by , and music composed by .

Shani Dhire Dhire Gaman Kare

Shani Dev Bhajan Shani Dhire Dhire Gaman Kare
Singer Arvind Ojha
Lyrics Shardul Rathod
Music Samuel Paul
Music Label Wings Music

▶ See the music video of Dheere Dheere Gaman Kare Song on Wings Music YouTube channel for your reference and song details.

Shani Dhire Dhire Gaman Kare Lyrics in English

Shani dheere dheere gaman karen aur
Sada shaant jo rahte hain
Jinke charnon mein karuna ke
Dhaare sada hi bahte hain

Nyaayadheesh aur saumyaswabhaavi
Shaastra jinhen kahte hain

Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan
Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan

Shani dheere dheere gaman karen aur
Sada shaant jo rahte hain
Jinke charnon mein karuna ke
Dhaare sada hi bahte hain

Nyaayadheesh aur saumyaswabhaavi
Shaastra jinhen kahte hain

Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan
Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan

Mahashakti shaali hain shani ji
Taakat aparampaar hai
Saare dukhon ka bhanjan ho jahaan
Wo shanidev ka dwaar hai

Ho..Mahashakti shaali hain shani ji
Taakat aparampaar hai
Saare dukhon ka bhanjan ho jahaan
Wo shanidev ka dwaar hai

Grahon ke mukhiya mukh pe jinke
Tej nirala rahta hai
Tej krodh par shaant swabhaavi
Har ek shaastra ye kahta hai

Jinke krodh se bigade naseeba
Daya se bhaagya sanwarte hain
Jinke krodh se bigade naseeba
Daya se bhaagya sanwarte hain

Nyaayadheesh aur saumyaswabhaavi
Shaastra jinhen kahte hain

Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan
Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan

Jo chintak hai shanidev ka
Saare sukh wo paata hai
Harsha kar wo shanidev ko
Aanand mangal gaata hai

Ho..Jo chintak hai shanidev ka
Saare sukh wo paata hai
Harsha kar wo shanidev ko
Aanand mangal gaata hai

Rooth jaane par shanidev ji
Sarvanaash kar dete hain
Apne kop se bade badon ko
Nahin sambhalne dete hain

Teenon lok mein mast hoke jo
Sada hi vichran karte hain
Teenon lok mein mast hoke jo
Sada hi vichran karte hain

Nyaayadheesh aur saumyaswabhaavi
Shaastra jinhen kahte hain

Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan
Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan

Aapke sammukh maun rahe es
Jag mein gyani dhyani sab
Aapke vandan karte rahte
Dev rishi muni praani sab

Haan..Aapke sammukh maun rahe es
Jag mein gyani dhyani sab
Aapke vandan karte rahte
Dev rishi muni praani sab

Shanivaar ko bhakti bhaav se
Jo shanidev ka paath karen
Kripa karke bhakton pe shani ji
Sukh ki sada barsaat karen

Apni kripa se prabhaav se jo
Dhan yash vaibhav bharte hain
Apni kripa se prabhaav se jo
Dhan yash vaibhav bharte hain

Nyaayadheesh aur saumyaswabhaavi
Shaastra jinhen kahte hain

Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan
Karen sab unka vandan
Ravi sut chhaya nandan

Shani Dhire Dhire Gaman Kare Lyrics in Hindi

धीरे धीरे गमन करें और
सदा शांत जो रहते हैं
जिनके चरणों में करुणा के
धारे सदा ही बहते हैं
न्यायधीश और सौम्यस्वभावी
शास्त्र जिन्हें कहते हैं

करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन
करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन

धीरे धीरे गमन करें और
सदा शांत जो रहते हैं
जिनके चरणों में करुणा के
धारे सदा ही बहते हैं
न्यायधीश और सौम्यस्वभावी
शास्त्र जिन्हें कहते हैं

करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन
करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन

महाशक्ति शाली हैं शनि जी
ताकत अपरंपार है
सारे दुखों का भंजन हो जहां
वो शनिदेव का द्वार है

हो..महाशक्ति शाली हैं शनि जी
ताकत अपरंपार है
सारे दुखों का भंजन हो जहां
वो शनिदेव का द्वार है

ग्रहों के मुखिया मुख पे जिनके
तेज निराला रहता है
तेज क्रोध पर शांत स्वभावी
हर एक शास्त्र ये कहता है

जिनके क्रोध से बिगड़े नसीबा
दया से भाग्य सँवरते हैं
जिनके क्रोध से बिगड़े नसीबा
दया से भाग्य सँवरते हैं

न्यायधीश और सौम्यस्वभावी
शास्त्र जिन्हें कहते हैं

करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन
करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन

जो चिंतक है शनिदेव का
सारे सुख वो पाता है
हर्षा कर वो शनिदेव को
आनंद मंगल गाता है

हो..जो चिंतक है शनिदेव का
सारे सुख वो पाता है
हर्षा कर वो शनिदेव को
आनंद मंगल गाता है

रूठ जाने पर शनिदेव जी
सर्वनाश कर देते हैं
अपने कोप से बड़े बड़ों को
नहीं संभलने देते हैं

तीनों लोक में मस्त होके जो
सदा ही विचरण करते हैं
तीनों लोक में मस्त होके जो
सदा ही विचरण करते हैं

न्यायधीश और सौम्यस्वभावी
शास्त्र जिन्हें कहते हैं

करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन
करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन

आपके सम्मुख मौन रहे इस
जग में ज्ञानी ध्यानी सब
आपका वंदन करते रहते
देव ऋषि मुनि प्राणी सब

हाँ..आपके सम्मुख मौन रहे इस
जग में ज्ञानी ध्यानी सब
आपका वंदन करते रहते
देव ऋषि मुनि प्राणी सब

शनिवार को भक्ति भाव से
जो शनिदेव का पाठ करें
कृपा करके भक्तों पे शनि जी
सुख की सदा बरसात करें

अपनी कृपा से प्रभाव से जो
धन यश वैभव भरते हैं
अपनी कृपा से प्रभाव से जो
धन यश वैभव भरते हैं

न्यायधीश और सौम्यस्वभावी
शास्त्र जिन्हें कहते हैं

करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन
करें सब उनका वंदन
रवि सुत छाया नंदन

 

Leave a Comment

Paudi Paudi Chadta Ja Lyrics – Lata Mangeshkar 2024: Tales of Hope, Resilience, and New Beginnings 10 motivational quotes by Jackie Chan