ज़ालिम Zaalim Lyrics in Hindi – Badshah, Payal Dev

 

Zaalim lyrics in Hindi sung by Badshah and Payal Dev. The song is written and music composed by Badshah.

 

Zaalim Song Details

📌 Song Title Zaalim
🎤 Singer Badshah, Payal Dev
✍️Lyrics Badshah
🎼Music  Badshah
🏷️Music Label T-Series

▶ See the music video of Zaalim Song on T-Series YouTube channel for your reference and song details.

Zaalim Lyrics in Hindi – Badshah

पड़ी तेरे इश्क में जबसे
ना रही किसी काम की ज़ालिम
नहीं कोई फिकर मुझको
किसी अंजाम की ज़ालिम

गिनूं सांसें जपूं माला
बस तेरे नाम की ज़ालिम
पड़ी तेरे इश्क में जबसे
ना रही किसी काम की ज़ालिम

पड़ी तेरे इश्क में जबसे
ना रही किसी काम की ज़ालिम
नहीं कोई फिकर मुझको
किसी अंजाम की ज़ालिम

गिनूं सांसें जपूं माला
बस तेरे नाम की ज़ालिम
पड़ी तेरे इश्क में जबसे
ना रही किसी काम की ज़ालिम

ओये छोरी तेरी परी हाथ लगा के देखा नरम बड़ी
हंड्रेड डिग्री हंड्रेड डिग्री गरम बड़ी करम जली

पगली ये ट्रिप्पी अलग है
माइंड में लगा मेरे चिप ही अलग है
एक बार जो थामा तेरा हाथ
तोह छूटेगा नहीं मेरी ग्रिप ही अलग है

तू हद से बाहर जा रही ऐ
मैं हद पार नहीं करना चाहता
बाकी कुछ भी करवा ले तू
बस प्यार नहीं करना आता

तुझको बुलाती हूँ तू आए क्यों ना
सावन है फिर भी बादल छाए क्यों ना
देहलीज़ मेरी पर तू इक बार कदम रख दे
मुझको ना और तड़पा
आ काम खतम कर दे

तुझे पागल बना दूंगी
नशा ऐसा चढ़ा दूंगी
जरुरत अब नहीं तुझको
किसी भी जाम की ज़ालिम

पड़ी तेरे इश्क में जबसे
ना रही किसी काम की ज़ालिम
नहीं कोई फिकर मुझको
किसी अंजाम की ज़ालिम

गिनूं सांसें जपूं माला
बस तेरे नाम की ज़ालिम
पढ़ी तेरे इश्क में जबसे
ना रही किसी काम की ज़ालिम

ना रही किसी काम की ज़ालिम
ना रही किसी काम की ज़ालिम
ना रही किसी काम की ज़ालिम
ना रही किसी काम की ज़ालिम

 

Zaalim Lyrics in English

Padi tere ishq mein jabse
Na rahi kisi kaam ki zaalim
Nahi koi fikar mujhko
Kisi anjaam ki zaalim

Ginu saansein japu mala
Bas tere naam ki zaalim
Padi tere ishq mein jabse
Na rahi kisi kaam ki zaalim

Padi tere ishq mein jabse
Na rahi kisi kaam ki zaalim
Nahi koi fikar mujhko
Kisi anjaam ki zaalim

Ginu saansein japu mala
Bas tere naam ki zaalim
Padi tere ishq mein jabse
Na rahi kisi kaam ki zaalim

Oye chori teri pari hath lga ke dekha naram badi
Hundred degree hundred degree garam badi karam jali

Pagli ye trippy alag hai
Mind mein laga mere chip hi alag hai
Ek baar jo thama tera hath
Toh chuttega nahi meri grip hi alag hai

Tu hadh se bahar ja rahi ae
Main hadh paar nahi karna chahta
Baki kuch bhi karwa le tu
Bas pyar nahi karna aata

Tujhko bulati hun tu aaye kyun na
Saavan hai phir bhi baadal chaaye kyun na
Dehleez meri par tu ik baar kadam rakh de
Mujhko na aur tadpa
Aa kaam khatam kar de

Tujhe paagal bana dungi
Nasha aisa chada dungi
Jarurat abb nahi tujhko
Kisi bhi jaam ki zaalim

Padi tere ishq mein jabse
Na rahi kisi kaam ki zaalim
Nahi koi fikar mujhko
Kisi anjaam ki zaalim

Ginu saansein japu mala
Bas tere naam ki zaalim
Parhi tere ishq mein jabse
Na rahi kisi kaam ki zaalim

Na rahi kisi kaam ki zaalim
Na rahi kisi kaam ki zaalim
Na rahi kisi kaam ki zaalim
Na rahi kisi kaam ki zaalim

Leave a Comment