RAAZ KI BAAT KEH DU TO LYRICS – Asha Bhosle, Mohammed Rafi | Dharma (1973)

Raaz Ki Baat Keh Du To Lyrics (राज़ की बात कह दूं तो Lyrics in Hindi): The song is sung by Asha Bhosle and Mohammed Rafi, and has music by Master Sonik and Om Prakash Sonik while Verma Malik has written the Raaz Ki Baat Keh Du To Lyrics. The music video of the Raaz Ki Baat Keh Du To song is directed by ​Chand , and it features Pran, Bindu, Navin Nischol, Rekha, and Madan Puri.

Raaz Ki Baat Khe Du To Song Details

📌Song Title Raaz Ki Baat Keh Du To
🎞️ Album Dharma (1973)
🎤 Singer Asha Bhosle , Mohammed Rafi
✍️ Lyrics Verma Malik
🎼Music Master Sonik , Om Prakash Sonik
🏷️Music Label Saregama

▶ See the music video of Raaz Ki Baat Keh Du To Song on Saregama YouTube channel for your reference and song details

RAAZ KI BAAT KEH DU TO LYRICS

Ye khushi ye masti or jo naya andaz hai
Pine wale oye samjhne walon samjh lo
Isme bhi ek raz hai

Raaz ki baat keh du to
Jane mahfil mein
Jane mahfil mein kya ho
Raaz ki baat keh du to
Jane mahfil me kya ho
Raaz khulane ka tum pahele
Raaz khulane ka tum pahele
Jara anjam soch lo
Issaron ko ager samjho to
Raaz ko raaz ko rahne do
Issaron ko ager samjho to
Raaz ko raaz ko rahne do
Raaz ki baat keh du to
Jan e mahfil mein kya ho

Jaba jo baat aayi
Kabhi rukti nahi hai
Kabhi ruk ti nahi hai
Uht gayi jo aankh ek bar jo
Wo zukti nahi hai
Arey jhukti nahi hai
Umido ka savera samane
Mehphul hone du
Hakikat ko chhupaungi to
Wo chhupti nahi hai
Jo barson se chhupi dil mein
Use hotho pe aane do
Jo barson se chhupi dil mein
Use hothon pe aane do
Raaz ki baat keh du to
Jan e mahfil mahfil mahfil
Jan e mahfil mein kya ho

Uthe aankhe jo mehfil mein
Wo aankhe foad ke rakh du
Wo aankhe foad ke rakh du
Badhe jo hath us hath ko
Main toad ke rakh du
Meri jaa toad ke rakh du
Jo na navakif hai
Aaj unse ja ke ye kah du
Juba pe raaz aaya to
Juba ko mod ke rahk du
Khushi se koi jita hai
Khushi se usko jine do
Khushi se koi jita hai
Khushi se usko jine do
Issaron ko ager samjho to
Raaz ko raaz ko rahne do

Usi ko chhin kar teri
Nazer se dur kar du
Are ha dur kar du
Tujhe mai aahe bharne ke liye
Majhbur kar du
Ha main majbhur kar du
Yaha badnam kar du
Waha mashahur kar du
Jaba khul jaye ager meri
To chakana chur kar du
Jara afsane ka pehele pata
Lagne do duniya ko
Jara afsane ka pehele pata
Lagne do duniya ko
Raaz ki baat keh du to
Jane mahfil mein jane mahfil mein
Jane mehfil mein fir kya ho

Ye suraj chand aur tare
Chale mere issaron par
Chale mere issaron par
Hakumat hai meri dariya
Samandar aur kinaro par
Samandar aur kinaro par
Samandar aur kinaro par
Main apne hathon se
Is duniya ki takdir likhta hu
Mager fir taras aata hai
Tere jaise becharo par
Nahi paida hua jo
Roke meri raho ko
Nahi paida hua jo
Roke meri raho ko
Issaro ko ager samjho to
Raaz ko raaz ko rahne do

Tumahri raat kya hai,
Teri aukat kya hai
Tumhare kya irade,
Ye pahele tu bata de
Husan ki mar buri hai,
Ishq ki haar buri hai
Nazer ka tir jo chhodu,
Ager ghughat utha du
To mai aankh lada du,
Kamer ke dekh jhathake
Idhr bhi dekh palat ke,
Tu mujhko na pehchane
Mujhe tu bhi na jane,
Badan mera hai kundan
Mera dil bhi hai chandan,
Mai chandan ki khusbu hu
Main chandan main chandan
Main chandan hubahu hu
Issaron ko ager samjho to
Raaz ko raaz ko rahne do
Issaron ko ager samjho to
Raaz ko raaz ko rahne do.

Written by:
Verma Malik

राज़ की बात कह दूं तो LYRICS IN HINDI

ये खुशी ये मस्ती और जो नया अंदाज़ है
पीने वाले ओए समझने वालों समझ लो
इसमें भी एक राज़ है

राज़ की बात कह दूं तो
जाने महफ़िल में
जाने महफ़िल में क्या हो
राज़ की बात कह दूं तो
जाने महफ़िल में क्या हो
राज़ खुलने का तुम पहले
राज़ खुलने का तुम पहले
जरा अंजाम सोच लो
इसारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो
इसारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो
राज़ की बात कह दूं तो
जाने महफ़िल में क्या हो

जब जो बात आई
कभी रुकती नहीं है
कभी रुकती नहीं है
उठ गई जो आँख एक बार जो
वो झुकती नहीं है
अरे झुकती नहीं है
उम्मीदों का सवेरा सामने
मेहफ़ूल होने दूं
हक़ीक़त को छुपाऊंगी तो
वो छुपती नहीं है
जो बरसों से छुपी दिल में
उसे होठों पे आने दो
जो बरसों से छुपी दिल में
उसे होठों पे आने दो
राज़ की बात कह दूं तो
जाने महफ़िल महफ़िल महफ़िल
जाने महफ़िल में क्या हो

उठे आँखें जो महफ़िल में
वो आँखें फोड़ के रख दूं
वो आँखें फोड़ के रख दूं
बढ़े जो हाथ उस हाथ को
मैं तोड़ के रख दूं
मेरी जा तोड़ के रख दूं
जो न वाकिफ़ है
आज उनसे जा के ये कह दूं
जुबां पे राज़ आया तो
जुबां को मोड़ के रहक दूं
खुशी से कोई जीता है
खुशी से उसको जीने दो
खुशी से कोई जीता है
खुशी से उसको जीने दो
इसारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो

उसी को छीन कर तेरी
नज़र से दूर कर दूं
अरे हाँ दूर कर दूं
तुझे मैं आहे भरने के लिए
मजबूर कर दूं
हा मैं मजबूर कर दूं
यहाँ बदनाम कर दूं
वहाँ मशहूर कर दूं
जब खुल जाए अगर मेरी
तो चकना चूर कर दूं
जरा अफ़्साने का पहले पता
लगने दो दुनिया को
जरा अफ़्साने का पहले पता
लगने दो दुनिया को
राज़ की बात कह दूं तो
जाने महफ़िल में जाने महफ़िल में
जाने महफ़िल में फिर क्या हो

ये सूरज चाँद और तारे
चले मेरे इशारों पर
चले मेरे इशारों पर
हुकूमत है मेरी दरिया
समंदर और किनारों पर
समंदर और किनारों पर
मैं अपने हाथों से
इस दुनिया की तकदीर लिखता हूँ
मगर फिर तरस आता है
तेरे जैसे बेचारों पर
नहीं पैदा हुआ जो
रोके मेरी राहों को
नहीं पैदा हुआ जो
रोके मेरी राहों को
इसारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो

तुम्हारी रात क्या है,
तेरी औक़ात क्या है
तुम्हारे क्या इरादे,
ये पहले तू बता दे
हुस्न की मार बुरी है,
इश्क़ की हार बुरी है
नज़र का तीर जो छोड़ू,
अगर घूंघट उठा दूं
तो मैं आँख लड़ा दूं,
कमर के देख झटके
इधर भी देख पलट के,
तू मुझको न पहचाने
मुझे तू भी न जाने,
बदन मेरा है कुंदन
मेरा दिल भी है चंदन,
मैं चंदन की खुशबू हूँ
मैं चंदन मैं चंदन
मैं चंदन हुबहू हूँ
इसारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो
इसारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो।

Written by:
Verma Malik

Leave a Comment